Photos and videos from instagram posts tagged with #annaguruji

anna.ganapati.nasik @anna.ganapati.nasik

Today Friday Vishesh Pujan Lord Shukra Dev and Naag Dev & Maa Chamundeshwari Shukr Dev : सुंदरता के प्रतीक शुक्र देवता को ऐशो आराम, शैया सुख, कामुकता, चमक, इत्र आदि सभी प्रकार की सुख समृद्धि व् साधनो का कारक माना जाता है । शुक्र वृष एवं तुला राशि का स्वामी है । मीन राशि शुक्र की उच्च व् कन्या नीच राशि है । इसकी महादशा सभी ग्रहों में सबसे अधिक 20 वर्ष की होती है । सुंदर होने के साथ साथ शुक्र प्रभावित जातक कुशाग्र बुद्धि, कुशल वक्ता व् आकर्षक व्यक्तित्व के स्वामी होते हैं । लोग इन्हें सुनना पसंद करते हैं व् सहज ही इनकी ओर आकर्षित हो जाते हैं । Mythology: Shukracharya is the son of Sage Bhrigu. He is the preceptor of the demons. Shukra was the only one considered worthy of being granted the knowledge of MritaSanjivani vidya by Lord Shiva. This knowledge is supposed to bring back even dead to life. Venus is feminine and gentle. An embodiment of love, he is a benefic planet and governs the refined attributes, romance, beauty, sensuality, passion, sexual pleasure, marriage, love matters, comforts, luxuries, jewelry, wealth, prosperity, art, music, dance, theater, actors, poets, musicians, the season of spring, rains and aquatic creatures. In the body he rules over the reproductive system, eyes, throat, chin, cheeks, and kidneys. Mercury and Saturn are its friends and the Sun and Moon are its enemies. Taurus and Libra are the zodiacal signs whom Venus rules, and Venus gives good results when placed in theses signs.When rightly aspected Venus is strong, and it brings wealth, comfort, attraction to the opposite sex in the early part of life, a well-proportioned body, and the attractive features necessary for a sensuous nature. It makes its natives tender, gentle, and considerate; lovers of jewelry, sour (pungent) taste, white dress, decoration, perfume, tasty food, and the fine arts. It inspires them to be poets, musicians, and seekers of truth and knowledge (secret sciences). The nati . #friday #prayers #venus #shukra #annaganapati #mahaganapati #guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik #siddhivinayak #temples #ganesh #shiva #vishnu # #temple #templesofindia

2
Today Friday Vishesh Pujan Lord Shukra Dev and Naag Dev & Maa Chamundeshwari
Shukr Dev : सुंदरता के प्रतीक शुक्र देवता को ऐशो आराम, शैया सुख, कामुकता, चमक, इत्र आदि सभी प्रकार की सुख समृद्धि व् साधनो का कारक माना जाता है । शुक्र वृष एवं तुला राशि का स्वामी है । मीन राशि शुक्र की उच्च व् कन्या नीच राशि है । इसकी महादशा सभी ग्रहों में सबसे अधिक 20 वर्ष की होती है । सुंदर होने के साथ साथ शुक्र प्रभावित जातक कुशाग्र बुद्धि, कुशल वक्ता व् आकर्षक व्यक्तित्व के स्वामी होते हैं । लोग इन्हें सुनना पसंद करते हैं व् सहज ही इनकी ओर आकर्षित हो जाते हैं ।

Mythology:
Shukracharya is the son of Sage Bhrigu. He is the preceptor of the demons. Shukra was the only one considered worthy of being granted the knowledge of MritaSanjivani vidya by Lord Shiva. This knowledge is supposed to bring back even dead to life. Venus is feminine and gentle. An embodiment of love, he is a benefic planet and governs the refined attributes, romance, beauty, sensuality, passion, sexual pleasure, marriage, love matters, comforts, luxuries, jewelry, wealth, prosperity, art, music, dance, theater, actors, poets, musicians, the season of spring, rains and aquatic creatures. In the body he rules over the reproductive system, eyes, throat, chin, cheeks, and kidneys.
Mercury and Saturn are its friends and the Sun and Moon are its enemies. Taurus and Libra are the zodiacal signs whom Venus rules, and Venus gives good results when placed in theses signs.When rightly aspected Venus is strong, and it brings wealth, comfort, attraction to the opposite sex in the early part of life, a well-proportioned body, and the attractive features necessary for a sensuous nature. It makes its natives tender, gentle, and considerate; lovers of jewelry, sour (pungent) taste, white dress, decoration, perfume, tasty food, and the fine arts. It inspires them to be poets, musicians, and seekers of truth and knowledge (secret sciences). The nati . 
#friday #prayers #venus #shukra #annaganapati #mahaganapati#guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi  #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik  #siddhivinayak#temples#ganesh#shiva#vishnu# #temple#templesofindia
anna.ganapati.nasik @anna.ganapati.nasik

देवानांच ऋषीनांच गुरुं कांचन सन्निभम् बुद्धिभूतं त्रिलोकेशं तं नमामि बृहस्पतिम् Jupiter Malefic Effects/गुरु ग्रह दोष: Brihaspati is also known as Guru and Devaguru. Brihaspati represents the balance of past karma, religion, philosophy, knowledge and issues relating to offspring. He is concerned with education, teaching and the dispensation of knowledge. Brihaspati is considered to be the greatest benefice of any of the planets(Jupiter Malefic Effects). Individual with exalted Jupiter in their horoscope have growth and expansion. As life progresses their empire and prosperity increases. Worship of planet Guru (Jupiter) wards of sins and results in cure from stomach ailments, diabetes, a disease directly related to Jupiter. Brihaspati is lord of three Nakshatra or lunar mansions: Punarvasu, Vishakha and Purva Bhadrapad(Jupiter Malefic Effects). Brihaspati is associated with: his colour is yellow, metal is gold and gemstone is yellow topaz and yellow sapphire. The season associated with him is winter (snow), direction is north-east and element is ether or space and the food is Bengal Gram and turmeric. श्री अन्ना गणपति नवग्रह सिद्धपीठम में गुरु यानि बृहस्पति ग्रह का बहुत बड़ा दर्जा है। इन्हें समस्त देवताओं का गुरु माना जाता है। गुरु ज्ञान के सलाह के दाता हैं। बड़े बुजूर्गों, वरिष्ठ अधिकारियों की कृपा गुरु की कृपा से ही संभव हैं। यदि आपकी कुंडली में गुरु शुभ हैं तो आपको विकट परिस्थितियों में भी सहयोग मिलता रहता है। कर्क राशि में बृहस्पति उच्च के होते हैं तो मकर राशि में इन्हें निकृष्ट माना जाता है। ये धनु व मीन राशि के स्वामी हैं। सूर्य, चंद्रमा व मंगल के साथ इनकी मित्रता है। तो शुक्र व बुध के साथ ये शत्रुवत संबंध रखते हैं। राहु-केतु व शनि के साथ इनका तटस्थ संबंध है। बृहस्पति में एक खास बात यह भी है कि इनकी भले ही किसी ग्रह से शत्रुता हो लेकिन जो ग्रह इनके साथ मित्रता नहीं रखते वे इनके शत्रु भी नहीं है यानि अधिकतर ग्रहों का बृहस्पति से तटस्थ रिश्ता है। # Thursday #prayers #guru #annaganapati #mahaganapati #guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik #siddhivinayak #temples #ganesh #shiva #vishnu # #temple #templesofindia

4
देवानांच ऋषीनांच गुरुं कांचन सन्निभम्  बुद्धिभूतं त्रिलोकेशं तं नमामि बृहस्पतिम्

Jupiter Malefic Effects/गुरु ग्रह दोष: Brihaspati is also known as Guru and Devaguru. Brihaspati represents the balance of past karma, religion, philosophy, knowledge and issues relating to offspring. He is concerned with education, teaching and the dispensation of knowledge. Brihaspati is considered to be the greatest benefice of any of the planets(Jupiter Malefic Effects). Individual with exalted Jupiter in their horoscope have growth and expansion. As life progresses their empire and prosperity increases. Worship of planet Guru (Jupiter) wards of sins and results in cure from stomach ailments, diabetes, a disease directly related to Jupiter.

Brihaspati is lord of three Nakshatra or lunar mansions: Punarvasu, Vishakha and Purva Bhadrapad(Jupiter Malefic Effects). Brihaspati is associated with: his colour is yellow, metal is gold and gemstone is yellow topaz and yellow sapphire. The season associated with him is winter (snow), direction is north-east and element is ether or space and the food is Bengal Gram and turmeric.

श्री अन्ना गणपति नवग्रह सिद्धपीठम में गुरु यानि बृहस्पति ग्रह का बहुत बड़ा दर्जा है। इन्हें समस्त देवताओं का गुरु माना जाता है। गुरु ज्ञान के सलाह के दाता हैं। बड़े बुजूर्गों, वरिष्ठ अधिकारियों की कृपा गुरु की कृपा से ही संभव हैं। यदि आपकी कुंडली में गुरु शुभ हैं तो आपको विकट परिस्थितियों में भी सहयोग मिलता रहता है। कर्क राशि में बृहस्पति उच्च के होते हैं तो मकर राशि में इन्हें निकृष्ट माना जाता है। ये धनु व मीन राशि के स्वामी हैं। सूर्य, चंद्रमा व मंगल के साथ इनकी मित्रता है। तो शुक्र व बुध के साथ ये शत्रुवत संबंध रखते हैं। राहु-केतु व शनि के साथ इनका तटस्थ संबंध है। बृहस्पति में एक खास बात यह भी है कि इनकी भले ही किसी ग्रह से शत्रुता हो लेकिन जो ग्रह इनके साथ मित्रता नहीं रखते वे इनके शत्रु भी नहीं है यानि अधिकतर ग्रहों का बृहस्पति से तटस्थ रिश्ता है। # Thursday#prayers #guru #annaganapati #mahaganapati#guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi  #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik  #siddhivinayak#temples#ganesh#shiva#vishnu# #temple#templesofindia
anna.ganapati.nasik @anna.ganapati.nasik

Ratha Saptami Birthday Celebration Of SURYA NARAYAN @Shri Anna Ganapati Navgraha Siddhapeetham,Nashik Ratha Saptami is one of the most important Hindu festivals that is observed on the ‘saptami’ (7th day) during the Shukla Paksha (the bright fortnight of moon) of the month of ‘Magha’ in the Hindu calendar. Ratha Saptami normally falls on the second day following the celebrations of Shri Panchami or Vasant Panchami. This festival is devoted to Sun God and is also popularly known as ‘Surya Jayanti’, ‘Magh Jayanti’ or ‘Magha Saptami’. Lord Surya is known to be an avatar of Lord Vishnu. This day celebrates the birth anniversary of Surya Bhagwan and is believed that on this day Sun God enlightened the whole world. The word ‘ratha’ means ‘chariot’ and on the day of Magh Shukla Paksha Saptami, Lord Sun is worshipped sitting on His golden chariot that is driven by seven white horses. The glory of Lord Sun, His Chariot and Ratha Saptami is not just limited to this but is extended far more. In India, there are many temples built in honour of Lord Sun and special events and celebrations are held on the day of Ratha Saptami in all these temples. The festivities are very well- known in Maharashtra, Tamil Nadu, Karnataka and Andhra Pradesh. #surya #narayan #birthday #sun #god #prayers #annaganapati #mahaganapati #guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik #siddhivinayak #temples #ganesh #shiva #vishnu # #temple #templesofindia

7
Ratha Saptami  Birthday Celebration Of  SURYA NARAYAN @Shri Anna Ganapati Navgraha Siddhapeetham,Nashik

Ratha Saptami is one of the most important Hindu festivals that is observed on the ‘saptami’ (7th day) during the Shukla Paksha (the bright fortnight of moon) of the month of ‘Magha’ in the Hindu calendar. Ratha Saptami normally falls on the second day following the celebrations of Shri Panchami or Vasant Panchami. This festival is devoted to Sun God and is also popularly known as ‘Surya Jayanti’, ‘Magh Jayanti’ or ‘Magha Saptami’. Lord Surya is known to be an avatar of Lord Vishnu. This day celebrates the birth anniversary of Surya Bhagwan and is believed that on this day Sun God enlightened the whole world.
The word ‘ratha’ means ‘chariot’ and on the day of Magh Shukla Paksha Saptami, Lord Sun is worshipped sitting on His golden chariot that is driven by seven white horses. The glory of Lord Sun, His Chariot and Ratha Saptami is not just limited to this but is extended far more. In India, there are many temples built in honour of Lord Sun and special events and celebrations are held on the day of Ratha Saptami in all these temples. The festivities are very well- known in Maharashtra, Tamil Nadu, Karnataka and Andhra Pradesh.

#surya #narayan #birthday #sun#god #prayers #annaganapati #mahaganapati#guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi  #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik  #siddhivinayak#temples#ganesh#shiva#vishnu# #temple#templesofindia
anna.ganapati.nasik @anna.ganapati.nasik

विकर्तनो विवस्वांश्च मार्तण्डो भास्करो रविः।लोक प्रकाशकः श्री माँल्लोक चक्षुर्मुहेश्वरः॥लोकसाक्षी त्रिलोकेशः कर्ता हर्ता तमिस्रहा।तपनस्तापनश्चैव शुचिः सप्ताश्ववाहनः॥गभस्तिहस्तो ब्रह्मा च सर्वदेवनमस्कृतः।एकविंशतिरित्येष स्तव इष्टः सदा रवेः॥ 'विकर्तन, विवस्वान, मार्तण्ड, भास्कर, रवि, लोकप्रकाशक, श्रीमान, लोकचक्षु, महेश्वर, लोकसाक्षी, त्रिलोकेश, कर्ता, हर्त्ता, तमिस्राहा, तपन, तापन, शुचि, सप्ताश्ववाहन, गभस्तिहस्त, ब्रह्मा और सर्वदेव नमस्कृत- इस प्रकार इक्कीस नामों का यह स्तोत्र भगवान सूर्य को सदा प्रिय है।' (ब्रह्म पुराण) #sunday #surya #sun #prayers #annaganapati #mahaganapati #guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik #siddhivinayak #temples #ganesh #shiva #vishnu # #temple #templesofindia

3
विकर्तनो विवस्वांश्च मार्तण्डो भास्करो रविः।लोक प्रकाशकः श्री माँल्लोक चक्षुर्मुहेश्वरः॥लोकसाक्षी त्रिलोकेशः कर्ता हर्ता तमिस्रहा।तपनस्तापनश्चैव शुचिः सप्ताश्ववाहनः॥गभस्तिहस्तो ब्रह्मा च सर्वदेवनमस्कृतः।एकविंशतिरित्येष स्तव इष्टः सदा रवेः॥ 'विकर्तन, विवस्वान, मार्तण्ड, भास्कर, रवि, लोकप्रकाशक, श्रीमान, लोकचक्षु, महेश्वर, लोकसाक्षी, त्रिलोकेश, कर्ता, हर्त्ता, तमिस्राहा, तपन, तापन, शुचि, सप्ताश्ववाहन, गभस्तिहस्त, ब्रह्मा और सर्वदेव नमस्कृत- इस प्रकार इक्कीस नामों का यह स्तोत्र भगवान सूर्य को सदा प्रिय है।' (ब्रह्म पुराण) 
#sunday #surya #sun #prayers #annaganapati #mahaganapati#guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi  #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik  #siddhivinayak#temples#ganesh#shiva#vishnu# #temple#templesofindia
anna.ganapati.nasik @anna.ganapati.nasik

माघ शुक्ल पंचमी को ज्ञान और बुद्ध‌ि की देवी मां सरस्वती के प्राकट्य दिवस के रूप मे वसंत पंचमी के रुप में मनाया जाता है। इस मौके पर मां सरस्वती की पूजा की जाती है और मौसम में अासानी से उपलब्ध होने वाले फूल चढ़ाए जाते हैं। विद्यार्थी इस दिन किताब-कॉपी और पाठ्य सामग्री की भी पूजा करते हैं। जिस दिन पंचमी तिथि सूर्योदय और दोपहर के बीच रहती है, उस दिन को सरस्वती पूजा के लिये उपयुक्त माना जाता है। इस दिन कई स्थानों पर शिशुओं को पहला अक्षर लिखना सिखाया जाता है। इसका कारण यह है कि इस दिन को विद्या आरंभ करने के लिये शुभ माना जाता है। या कुन्देन्दु-तुषारहार-धवला या शुभ्र-वस्त्रावृता  या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युत शंकर-प्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता  सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा॥ #annaganapati #mahaganapati #guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik #siddhivinayak #temples #ganesh #shiva #vishnu # #temple #templesofindia

7
माघ शुक्ल पंचमी को ज्ञान और बुद्ध‌ि की देवी मां सरस्वती के प्राकट्य दिवस के रूप मे वसंत पंचमी के रुप में मनाया जाता है। इस मौके पर मां सरस्वती की पूजा की जाती है और मौसम में अासानी से उपलब्ध होने वाले फूल चढ़ाए जाते हैं। विद्यार्थी इस दिन किताब-कॉपी और पाठ्य सामग्री की भी पूजा करते हैं। जिस दिन पंचमी तिथि सूर्योदय और दोपहर के बीच रहती है, उस दिन को सरस्वती पूजा के लिये उपयुक्त माना जाता है। इस दिन कई स्थानों पर शिशुओं को पहला अक्षर लिखना सिखाया जाता है। इसका कारण यह है कि इस दिन को विद्या आरंभ करने के लिये शुभ माना जाता है। या कुन्देन्दु-तुषारहार-धवला या शुभ्र-वस्त्रावृता 
या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युत शंकर-प्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता 
सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा॥ #annaganapati #mahaganapati#guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi  #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik  #siddhivinayak#temples#ganesh#shiva#vishnu# #temple#templesofindia
anna.ganapati.nasik @anna.ganapati.nasik

🕉 चौदा विद्या चौसष्ठ कलां’चा अधिपती असलेल्या गणपती बाप्पाचा माघ महिन्यातील जयंती उत्सव 🕉.दिनांक ८ फेब्रुवारी २०१९ रोजी संपन्न झाली. परमश्रध्देय दत्तयोगी प. पू. श्री अण्णा गुरुजी महाराज यांच्या धार्मिक अधिष्ठानातून , संपूर्ण महाराष्ट्रातील व उत्तर भारतातील एकमेव श्री अण्णा गणपती नवग्रह सिध्दपिठम, नाशिक महाराष्ट्र. परं धाम परं ब्रह्म परेशं परमीश्वरम । विघ्न निघ्न्करम शान्तं पुष्टं कान्त्मनंत्क्म॥ सुरसुरेंद्रे : सिद्धेंद्रे : स्तुतं स्तौमि परात्परं । सुरपद्म दिनेशं च गणेशं मंग्लायतम ॥ इदं स्तोत्रं महापुण्यं विघ्न शोकं हरं परम । यः पठेत प्रात रुत्थाय सर्व विघ्नात प्रमुच्यते ॥ www.annaganapati.com, Temple Office : 9921900031 #ganesh #jayanti #birthday #celebration #annaganapati #mahaganapati #guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik #siddhivinayak #temples #temple #templesofindia

18
🕉 चौदा विद्या चौसष्ठ कलां’चा अधिपती असलेल्या गणपती बाप्पाचा माघ महिन्यातील जयंती उत्सव 🕉.दिनांक ८ फेब्रुवारी २०१९ रोजी संपन्न झाली.
परमश्रध्देय दत्तयोगी प. पू. श्री अण्णा गुरुजी महाराज यांच्या धार्मिक अधिष्ठानातून , संपूर्ण महाराष्ट्रातील व उत्तर भारतातील एकमेव श्री अण्णा गणपती नवग्रह सिध्दपिठम, नाशिक महाराष्ट्र.

परं धाम परं ब्रह्म परेशं परमीश्वरम । विघ्न निघ्न्करम शान्तं पुष्टं कान्त्मनंत्क्म॥ 
सुरसुरेंद्रे : सिद्धेंद्रे : स्तुतं स्तौमि परात्परं । सुरपद्म दिनेशं च गणेशं मंग्लायतम ॥
इदं स्तोत्रं महापुण्यं विघ्न शोकं हरं परम । यः पठेत प्रात रुत्थाय सर्व विघ्नात प्रमुच्यते ॥

www.annaganapati.com,  Temple Office : 9921900031

#ganesh#jayanti #birthday #celebration #annaganapati #mahaganapati#guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi  #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik  #siddhivinayak#temples #temple#templesofindia
anna.ganapati.nasik @anna.ganapati.nasik

* आज मंगलवार 2019: गुप्त नवरात्र 5 से 14 फरवरी तक* हिंदू धर्म के अनुसार, एक वर्ष में चार नवरात्र होती है, लेकिन आमजन केवल दो नवरात्र (चैत्र व शारदीय नवरात्रि) के बारे में ही जानते हैं। इनके अलावा माघ व आषाढ़ मास में भी नवरात्र का पर्व गुप्त रूप से मनाया जाता है। इसलिए इन्हें गुप्त नवरात्र कहते हैं। इस बार माघ मास की गुप्त नवरात्र का प्रारंभ माघ शुक्ल प्रतिपदा (5 फरवरी, मंगलवार ) से हो रहा है, जो 14 फरवरी, गुरुवार को समाप्त होगी। *क्यों कहते हैं इसे गुप्त नवरात्र?* माघ मास की नवरात्र को गुप्त नवरात्र कहते हैं, क्योंकि इसमें गुप्त रूप से शिव व शक्ति की उपासना की जाती है। जबकि चैत्र व शारदीय नवरात्र में सार्वजनिक रूप में माता की भक्ति करने का विधान है। माघ शुक्ल पंचमी को ही देवी सरस्वती प्रकट हुई थीं। इन्हीं कारणों से माघ मास की नवरात्र में सनातन, वैदिक रीति के अनुसार देवी साधना करने का विधान निश्चित किया गया है। गुप्त नवरात्र विशेष तौर पर गुप्त सिद्धियां पाने का समय है। साधक इन दोनों गुप्त नवरात्र (माघ तथा आषाढ़) में विशेष साधना करते हैं तथा चमत्कारिक शक्तियां प्राप्त करते हैं। *साल में कब-कब आती है नवरात्र, जानिए* हिंदू धर्म के अनुसार, एक वर्ष में चार नवरात्र होती है। वर्ष के प्रथम मास अर्थात चैत्र में प्रथम नवरात्र होती है। चौथे माह आषाढ़ में दूसरी नवरात्र होती है। इसके बाद अश्विन मास में प्रमुख नवरात्र होती है। इसी प्रकार वर्ष के ग्यारहवें महीने अर्थात माघ में भी गुप्त नवरात्र मनाने का उल्लेख एवं विधान देवी भागवत तथा अन्य धार्मिक ग्रंथों में मिलता है। अश्विन मास की नवरात्र सबसे प्रमुख मानी जाती है। इस दौरान गरबों के माध्यम से माता की आराधना की जाती है। दूसरी प्रमुख नवरात्र चैत्र मास की होती है। इन दोनों नवरात्रियों को क्रमश: शारदीय व वासंती नवरात्र के नाम से भी जाना जाता है। इसके अतिरिक्त आषाढ़ तथा माघ मास की नवरात्र गुप्त रहती है। इसके बारे में अधिक लोगों को जानकारी नहीं होती, इसलिए इन्हें गुप्त नवरात्र कहते हैं। #tuesday #tuesdayvibes #tuesdayprayers #annaganapati #mahaganapati #guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik #siddhivinayak #temples #ganesh #shiva #vishnu # #temple #templesofindia

13
* आज मंगलवार 2019: गुप्त नवरात्र 
5 से 14 फरवरी तक*

हिंदू धर्म के अनुसार, एक वर्ष में चार नवरात्र होती है, लेकिन आमजन केवल दो नवरात्र (चैत्र व शारदीय नवरात्रि) के बारे में ही जानते हैं। इनके अलावा माघ व आषाढ़ मास में भी नवरात्र का पर्व गुप्त रूप से मनाया जाता है। इसलिए इन्हें गुप्त नवरात्र कहते हैं। इस बार माघ मास की गुप्त नवरात्र का प्रारंभ माघ शुक्ल प्रतिपदा (5 फरवरी, मंगलवार ) से हो रहा है, जो 14 फरवरी, गुरुवार को समाप्त होगी। *क्यों कहते हैं इसे गुप्त नवरात्र?*
माघ मास की नवरात्र को गुप्त नवरात्र कहते हैं, क्योंकि इसमें गुप्त रूप से शिव व शक्ति की उपासना की जाती है। जबकि चैत्र व शारदीय नवरात्र में सार्वजनिक रूप में माता की भक्ति करने का विधान है। माघ शुक्ल पंचमी को ही देवी सरस्वती प्रकट हुई थीं। इन्हीं कारणों से माघ मास की नवरात्र में सनातन, वैदिक रीति के अनुसार देवी साधना करने का विधान निश्चित किया गया है। गुप्त नवरात्र विशेष तौर पर गुप्त सिद्धियां पाने का समय है। साधक इन दोनों गुप्त नवरात्र (माघ तथा आषाढ़) में विशेष साधना करते हैं तथा चमत्कारिक शक्तियां प्राप्त करते हैं। *साल में कब-कब आती है नवरात्र, जानिए*

हिंदू धर्म के अनुसार, एक वर्ष में चार नवरात्र होती है। वर्ष के प्रथम मास अर्थात चैत्र में प्रथम नवरात्र होती है। चौथे माह आषाढ़ में दूसरी नवरात्र होती है। इसके बाद अश्विन मास में प्रमुख नवरात्र होती है। इसी प्रकार वर्ष के ग्यारहवें महीने अर्थात माघ में भी गुप्त नवरात्र मनाने का उल्लेख एवं विधान देवी भागवत तथा अन्य धार्मिक ग्रंथों में मिलता है। अश्विन मास की नवरात्र सबसे प्रमुख मानी जाती है। इस दौरान गरबों के माध्यम से माता की आराधना की जाती है। दूसरी प्रमुख नवरात्र चैत्र मास की होती है। इन दोनों नवरात्रियों को क्रमश: शारदीय व वासंती नवरात्र के नाम से भी जाना जाता है। इसके अतिरिक्त आषाढ़ तथा माघ मास की नवरात्र गुप्त रहती है। इसके बारे में अधिक लोगों को जानकारी नहीं होती, इसलिए इन्हें गुप्त नवरात्र कहते हैं। #tuesday #tuesdayvibes #tuesdayprayers #annaganapati #mahaganapati#guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi  #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik  #siddhivinayak#temples#ganesh#shiva#vishnu# #temple#templesofindia
anna.ganapati.nasik @anna.ganapati.nasik

Nivrutti Nath Maharaj Yatra ,Trimbakeshwar,Nasik निवृत्तीनाथ महाराज यात्रा त्र्यंबकेश्वर, नाशिक #annaganapati #mahaganapati #guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik #trimbakeshwar #siddhivinayak #temples #ganesh #shiva #vishnu # #temple #templesofindia

8
Nivrutti Nath Maharaj Yatra ,Trimbakeshwar,Nasik

निवृत्तीनाथ महाराज यात्रा त्र्यंबकेश्वर, नाशिक

#annaganapati #mahaganapati#guruji #gurudev #jaigurudev #navgrahasiddhapeetham #navgrahanasik #dattayogi  #annaguruji #maa #maharashtra #nasik #nashik #trimbakeshwar #siddhivinayak#temples#ganesh#shiva#vishnu# #temple#templesofindia
Next »